सपना पूरा होने की दहलीज पर मिली मौत, प्लेन क्रैश में जान गंवा बैठीं हिमानी कल्याण क़ुटेल

जब किसी इंसान का सपना पूरे होने की दहलीज पर हो और उससे ठीक पहले कोई अनहोनी हो जाए तो इस दर्द को बयां करना मुश्किल होता है. कुछ ऐसा ही वाकया हरियाणा के करनाल की रहने वाली हिमानी के साथ हुआ. हिमानी पायलट बनने की दहलीज पर थी, लेकिन ट्रेनिंग के आखिरी घंटे में विमान क्रैश होने से उसकी मौत हो गई. महाराष्ट्र के गोंदिया जिले की वैनगंगा नदी के पास की घटना 24 साल की हिमानी कल्याण कमर्शियल पायलट बनने की ट्रेंनिंग ले रही थी. उसके साथ उसके इंस्ट्रक्टर भी थे. विमान इतना नीचे उड़ रहा था कि वो इस रोपवे में फंस गया. रोपवे में फंसने की वजह से विमान में अचानक गड़बड़ी आ गई. जब हिमानी ने प्लेन को लैंड कराने की कोशिश तभी हादसा हो गया. हादसे में हिमानी और उनके इंस्ट्रक्टर कैप्टन रंजन गुप्ता की मौत हो गई. महाराष्ट्र के गोंदिया जिले की वैनगंगा नदी के पास यह हादसा बुधवार को सुबह साढ़े नौ बजे हुआ. pilot 2 पायलट बनने से महज ‘एक घंटे’ दूर थी हिमानी हिमानी दो साल से ट्रेनिंग ले रही थी और सकी ट्रेनिंग यह आखिरी उड़ान थी. तीन घंटे बाद वह पायलट बनने वाली थी लेकिन यह उसकी जिंदगी की यह आखिरी उड़ान थी. हिमानी को कमर्शियल पायलट बनने के लिए सिर्फ एक घंटे और प्लेन उड़ाना था. कमर्शियल पायलट के लाइसेंस के लिए कम से कम 200 घंटे विमान उड़ाने का अनुभव होना चाहिए और हिमानी तब तक 199 घंटे प्लेन उड़ाने का अनुभव ले चुकी थी. हिमानी कल्याण गोंदिया के बिरसी हवाई पट्टी से नेशनल फ्लाइंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट से विमान उड़ाने की ट्रेनिंग ले रही थी.